राघव चड्ढा अपने ही बयान पर बुरे फंसे, जानिए क्या है मामला

राघव चड्ढा अपने ही बयान पर बुरे फंसे, जानिए क्या है मामला

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा एक बार फिर सुर्खियों में है. राघव चड्ढा ने एक इंटरव्यू के दौरान एक ऐसा बयान दे दिया जिससे उनकी मुश्किलें काफी बढ़ गई है. उनके इंटरव्यू की एक क्लिप सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही है. राघव चड्ढा को वीडियो में कहते हुए सुना जा सकता है कि सरकारी अफसरों को बर्खास्त नहीं किया जा सकता है, लेकिन उनका तबादला किया जा सकता है.

राघव चड्ढा ने बयान देते हुए कहा कि, "बहुत अच्छा काम रहा है तो उसको अच्छा विभाग दो हेल्थ सेकेट्री बनाओ, होम सेकेट्री बनाओ और जो खराब काम कर रहा उसे ट्राइबल अफेयर्स मिनिस्ट्री में पनिशमेंट पोस्टिंग दो."

गौरतलब है कि जब इंटरव्यू लेने वाले पत्रकार ने राघव चड्ढा से कहा कि आपका बयान कुछ हद तक राजनीतिक रूप से गलत है तो इसके जवाब में राघव चड्ढा ने कहा कि वो बस एक उदाहरण दे रहे थे. चड्ढा ने आगे कहा कि आदिवासी मामलों के बजाय पशुपालन या बागवानी हो सकता है. राघव चड्ढा ने इसके साथ यह भी कहा कि कृपया करके इसे गलत भावना से ना ले.

अब राघव चड्ढा के इस बयान पर जमकर बवाल हो रहा है. इस पर तरह-तरह की राजनीतिक प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई है. उनके इस बयान की आलोचना करते हुए स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि, "शर्म आती है मुझे कि कभी मैंने राघव चड्ढा जैसे युवाओं में उम्मीद देखी थी."


Next Story
Share it
Top
To Top